आतंकियों को इमरान ख़ान ने दी खुली छूट ।

पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा जमीन खरीद रहा है । भारतीय खुफिया सूत्रों ने यह जानकारी दी है । मिली जानकारी के अनुसार हाउसिंग मेडिकल, एजुकेशनल और आइडीअलाजिकल ट्रेनिंग फैसेलटीज का कैंपस बनाए जाने की उम्मीद है ।

बहुराष्ट्रीय वित्तीय कार्य टास्क फोर्स (FATF) का प्रतिनिधित्व करने वाले वित्तीय अपराध विशेषज्ञ, जिन्होंने आतंकवादी वित्तपोषण के खिलाफ काम न करने तक पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट करने की धमकी दी है, वे फिलहाल पाक में जिहादी समूहों के खिलाफ कार्य करने के अपने दावों का आकलन करने के लिए देश में हैं ।

हालांकि विदेशी ऋण संकट में फंसी प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार को एफएटीएफ से कार्रवाई को रोकने की उम्मीद है, इसके लश्कर और उसके जिहादी सहयोगियों के साथ घनिष्ठ संबंध है. बीते महीने धार्मिक मामलों के मंत्री नूरुल हक कादरी ने जिहाद कुलपति सामी-उल-हक के साथ एक मंच साझा किया, जहां उन्होंने भाषण दिया था कि ‘कश्मीर मुद्दे को जिहाद के बिना हल नहीं किया जा सकता.’

दिलचस्प बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों के कर्मचारियों को बहावलपुर के आसपास से बाहर निकाला गया है । भारतीय अधिकारियों का मानना है कि ऐसा क्षेत्र में आने वाले जिहादी बुनियादी ढांचे को उनकी आंखो से दूर करने के लिए किया गया है.

Comments are closed.

Language
%d bloggers like this: