कोविड-19 की गाइडलाइन के कड़े नियमों के बीच हो रहा मतदान

राज्यसभा चुनाव के लिए हो रही वोटिंग में कांग्रेस और बीजेपी के लगभग सभी बड़े नेताओं ने मतदान कर दिया है। 1 बजे तक 200 में से 188 विधायक वोट डाल चुके हैं। कांग्रेस के 10 विधायकों के वोट डाले जाने बाकी हैं। मतदान का सिलसिला अभी जारी है। मतदान का समय शाम 4 बजे तक का है। मतदान के दौरान कोविड-19 की गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया जा रहा है।

सभी विधायक और मतदानकर्मी एक-एक नियम कायदे का पालन करते देखे गए। मतदान के लिए होटल से लाए गए विधायकों की बसों को विधानसभा में सेनेटाइज करने के बाद ही एंट्री दी गई। कार से आने वाले विधायकों की कार को भी सेनेटाइज के बाद प्रवेश दिया गया। कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए गेट पर कांटेक्ट लैस पैडल हेंड सेनेटाइजर मशीनें लगाई गईं। गेट पर ही विधायकों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। सभी विधायक और मतदानकर्मी मास्क लगाए हुए रहे। मतदान करने के लिए सभी विधायक एवं मंत्री सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए उचित दूरी पर खड़े रहे।

मतदान से पहले मच रही उठापटक के बीच मंत्री रमेश मीणा की पार्टी से नाराजगी की खबरें आ रही थी। मतदान करने आए मंत्री मीणा ने कहा कि पार्टी से उनकी कोई नाराजगी नहीं है। जो समस्याएं थीं उनसे पार्टी नेतृत्व को अवगत करवा दिया है। समस्याओं के समाधान का इंतजार है। उनकी मुख्यमंत्री से कोई चर्चा नहीं हुई है। राहुल गांधी तक उनकी बात पहुंच चुकी है। सब कुछ सही होने का आश्वासन मिला है। उन्होंने कहा कि उनके नेता राहुल गांधी हैं।

बीटीपी के दोनों विधायक राजकुमार रोत और रामप्रसाद ने कांग्रेस उम्मीदवार को अपना वोट दिया है। दोनों विधायकों ने कहा कि आदिवासी इलाके के विकास से जुड़ी समस्याओं के समाधान की सीएम से मांग की थी। बकौल बीटीपी विधायक हमने मुद्दों के आधार पर कांग्रेस को राज्यसभा चुनाव में समर्थन दिया है। आदिवासी इलाके से जुड़ी विकास की मांगें पूरी करने पर आगे भी समर्थन जारी रहेगा।

Comments are closed.

Language
%d bloggers like this: